ई- पेपर ऐप में फ्री शहर चुनें साइन इन

ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकमजोर महिलाओं को बढ़ा देते हैं; खरगे ने ऐसा क्या बोल दिया, जिस पर भड़कीं निर्मला सीतारमण

कमजोर महिलाओं को बढ़ा देते हैं; खरगे ने ऐसा क्या बोल दिया, जिस पर भड़कीं निर्मला सीतारमण

महिला आरक्षण विधेयक पर राज्यसभा में चर्चा के दौरान मल्लिकार्जुन खरगे घिरे नजर आए। राज्यसभा में नेता विपक्ष ने कहा कि पार्टियां महिलाओं की बात आती है तो कमजोर को बढ़ा देती हैं। इस पर निर्मला भड़क गईं।

Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 19 Sep 2023 04:20 PM
ऐप पर पढ़ें

महिला आरक्षण बिल को मोदी सरकार ने 'नारी शक्ति वंदन' के नाम से लोकसभा में पेश कर दिया है। नई संसद की शुरुआत ही इस विधेयक के साथ हुई है। इस बीच इस पर राज्यसभा में भी जोरदार चर्चा हुई और नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के एक बयान पर तो हंगामे की नौबत आ गई। इस पर खरगे को सफाई तक देनी पड़ गई। दरअसल मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा था कि महिलाओं की बात होती है तो पार्टियां कमजोर को ही मौका दे देती हैं। ऐसी महिलाओं को अवसर नहीं मिलता, जो सशक्त होती हैं और अपनी बात को मजबूती के साथ रखने में सक्षम हों। 

उनकी इस टिप्पणी पर भाजपा सांसदों की ओर से हंगामा होने लगा तो खरगे ने कहा कि आप चुप रहिए। क्या आपने कभी एक तिहाई महिलाओं को टिकट दिए हैं। उन्होंने कहा कि मुझे मालूम है कि बैकवर्ड और अनुसूचित जाति की महिलाओं को किस तरह से पार्टियां चुनती हैं। लेकिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि आपने यह गलत बात कही है। आपकी पार्टी की तो मुखिया भी लंबे समय तक एक महिला ही रही हैं तो क्या वह कमजोर महिला थीं। इस तरह महिलाओं के बारे में बात करना गलत है। बात यहां भी नहीं रुकी और मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि आपकी बात अलग है। मैं कहता हूं कि एससी, एसटी और ओबीसी वर्ग की महिलाओं से क्या होता है।

लोकसभा में होंगी 181 महिला MP, UP-बिहार समेत किस असेंबली में कितनी नारियां

इस पर भी निर्मला सीतारमण ने तीखा जवाब देते हुए कहा कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी जनजाति समुदाय से हैं। क्या वह कमजोर हैं? इस तरह की बात आपको नहीं करनी चाहिए। बहस के दौरान खरगे ने महिला आरक्षण में ओबीसी सब-कोटा न होने पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि एससी-एसटी की महिलाओं को उनके ही कोटे से एक तिहाई आरक्षण दिया गया है। लेकिन ओबीसी वर्ग के लिए क्या होगा। इस बारे में भी सोचना चाहिए। ओबीसी क्लास की महिलाओं में पढ़ाई का स्तर कमजोर है। इसलिए उनके बारे में भी सोचना चाहिए।

किसी एक के लिए नहीं किया, सभी पार्टियों का हाल एक जैसा; खरगे की सफाई

वहीं कमजोर महिलाओं वाले बयान पर सफाई देते हुए खरगे ने कहा कि मैंने किसी एक पार्टी की बात नहीं की है। मैं सभी की बात कर रहा हूं। हिंदुस्तान की हर पार्टी में ऐसा ही है। महिलाओं को ऐसा मौका दिया जाता है कि वे कुछ बोल न सकें। खरगे ने कहा कि आप महिलाओं को आगे बढ़ने ही नहीं देते। इस दौरान खरगे ने एक और दावा किया कि राज्यों को समय पर जीएसटी नहीं मिलता। इस पर भी वित्त मंत्री निर्मला ने कहा कि आप इस बारे में कोई दस्तावेज दें। गलत तथ्य दे रहे हैं और इसे वापस लेना होगा।

zz link: zz